रविवार, सितंबर 25, 2005

ऐसे क्यों ?

मारिया कहती है, "जिस समय मुझे दोस्तों की सबसे अधिक जरुरत थी, उसी समय सारे दोस्त गुम हो गये." मारिया अस्पताल में मनोवैज्ञानिक है. ट्रेफिक दुर्घटना में उसके शरीर का नीचे का हिस्सा पंगु हो गया था और वह व्हील चैयर पर घूमती है. दुर्घटना के बाद, पति ने तलाक ले लिया. मरिया कहती है, "लोगों को शायद लगता है कि कुछ कर नहीं सकते, हमारे दुख को कम नहीं कर सकते. शायद हमारा यह समाज, हमें दुख, दुर्घटना, मृत्यु, बीमारी जैसी कोई भी नेगेटिव बात होने के लिए तैयार नहीं करता. मेरे अधिकतर मित्र मुझसे बात करने से कतराते थे. दुर्घटना से पहले के जो भी मित्र थे, उनमे से आज केवल दो लोग है जिनसे संपर्क बना हुआ है. मैंने देखा है कि किसी को कैसंर जैसी बीमारी हो जाये, लोग उससे बात करना छोड़ देते हैं, शुरु में एक बार टेलीफोन से या चिट्ठी से कहेंगे कि उन्हे दुख है, पर फिर उस व्यक्त्ति से बात करना ही छोड़ देते हैं."

2 टिप्‍पणियां:

  1. what do you think is the best way for Maria's friends to handle Maria now, same as before or making an extra effort? Must be very tricky, specially for friends who are not close to her. As for the husband well he needs to be given a can of whoop ass.

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक आशावादी होने के नाते मैं यह कह सकता हूँ, कि ऐसा होना अपवाद है नियम नहीं। दुनिया में बहुत कुछ अच्छा भी है, और अक्सर इस तरह की दुर्घटनाओं के शिकार लोगों की मदद होती है। ख़ुदा-न-ख़्वास्ता हम आप के साथ, या हमारे जीवन साथियों के साथ कोई दुर्घटना हो जाए तो क्या हम एक दूसरे का साथ छोड़ देंगे? नहीं न? शायद भारत में या भारतीय समाज में इस घटना का निष्कर्ष इतना दुःखद नहीं होता। एक और मुद्दा है कि स्वयं पीड़ित व्यक्ति किस तरह से जीवन के साथ समझौता करता/ती है। स्वयं मनोवैज्ञानिक होने के नाते आशा है कि मारिया बचे खुचे टुकड़े संभाल लेगी और ज़िन्दगी से हार नहीं मानेगी। दुनिया के अन्य अपंगों को देखे जो जीवन में सफल होते हैं, और सफलता के तो सभी दोस्त होते ही हैं।

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...