बुधवार, अक्तूबर 17, 2007

सप्ताह के दिनों के नाम

एक तरफ़ केलैंण्डर, वर्ष और महीने सब नक्षत्रों यानि सूर्य, पृथ्वी और मौसमों से जुड़े हैं. दूसरी ओर सप्ताह का नक्षत्रों, इत्यादि से कोई वास्ता नहीं लगता. कहते हैं कि विभिन्न सभ्यताओं में सप्ताह सात से कम या अधिक दिनों के भी हो सकते थे हालाँकि अपनी दुनिया के विभिन्न देशों में यात्राओं में मैंने इस बारे में कभी नहीं सुना.

सप्ताह के सात दिन होना, सात नम्बर के विषेश महत्व को दर्शाता है क्योकि सप्त ऋषी के सात तारे थे, और प्राचीन नक्षत्रशास्त्र में सात नक्षत्र थे. इस बात में कितना सच है यह कहना कठिन है.

रोमन केलैंण्डर में सम्राट कोंस्टेंटाईन ने ईसा के करीब तीन सौ वर्ष के बाद सात दिनों वाले सप्ताह को निश्चत किया और उन्हें नक्षत्रों के नाम दिये, यानि सप्ताह के पहले दिन को सूर्य का नाम, दूसरे दिन को चाँद का नाम, तीसरे दिन को मँगल, चौथे दिन को बुध, पाँचवें दिन को बृहस्पति, छठे दिन को शुक्र और सातवें दिन को शनि का नाम. आज भी रोमन संस्कृती से प्रभावित देशों में इन्हीं नामों का प्रयोग होता है.

जैसे कि सोमवार को लूना यानि चाँद का नाम दिया गया इसलिए इतालवी भाषा में उसे लुनेदी और फ्राँस में उसे लंदी कहते है. भारत में भी सप्ताह के दिन इसी परम्परा से जुड़े हैं. लेकिन पुर्तगाल जो कि लेटिन भाषा और रोमन संस्कृति का देश है, वहाँ कुछ भिन्न हुआ. वे लोग रविवार को तो सूर्य के साथ जोड़ते हैं पर सप्ताह के बाकी के दिनों को सुगुंदा फेरा, तेरसेइरा फेरा, यानि दूसरा दिन, तीसरा दिन आदि कहते हैं.

कुछ इसी तरह का हिसाब चीन में भी है जहाँ छिंगचीयी, छिंगचीएर, छिंगचीसान आदि का अर्थ पहला दिन, दूसरा दिन, तीसरा दिन आदि ही होता है. पर जापानी भाषा इससे भिन्न है. जापानी में रविवार को निचीयोबि यानि सूर्य का दिन, सोमवार को गेतसुयोबी यानि चाँद का दिन, मँगलवार को कायोबी यानि आग का दिन, बुधवार को सुईयोबी यानि पानी का दिन, बृहस्पतिवार को मोकुयोबी यानि लकड़ी का दिन, शुक्रवार को किनयोबी यानि स्वर्णदिन और शनिवार को दोयोबी यानि धरती का दिन कहते हैं.

अब देखें अग्रेजी में इन्हीं दिनो को. सण्डे, मण्डे और सेटरडे तीन दिनों के नाम रोमन नामों से मिलते हैं यानि सूर्य, चंद्र और शनि के नाम से जुड़े पर बाकि दिनों के नाम भिन्न हैं, यह कैसे हुआ? इसका कारण ईंग्लैंड का इतिहास है. रोमन साम्राज्य के बाद वहाँ पर बाहर से हमले होते रहे, कभी जर्मनी से, कभी स्केडेनेविया के देशों से, जहाँ के एन्गलोसेक्सन लोग अपने साथ अपने देवी देवता ले कर आये. नोर्वे के थोर देवता जो बादलों और तूफ़ान की गड़गड़ाहट के देवता हैं उन्होंने अपना नाम दिया बृहस्पतिवार को यानि कि थर्सडे. नोर्वे के सबसे बड़े देवता वोडन ने नाम दिया बुधवार यानि वेडनेसडे को. वोडेन देवता के पुत्र तीव ने नाम दिया मँगलवार यानि ट्यूसडे को और वोडेन के पत्नि फ्रिया ने नाम दिया शुक्रवार यानि फ्राईडे को.

इन सब बातों से यह उत्तर देना कि भारत में सप्ताह के दिन कब से शुरु हुए और कहाँ से आये, यह मुझे नहीं मालूम. नामों को देख कर लगता है कि यह नाम अँग्रेजों के आने से पहले ही आ चुके थे क्योंकि यह अंग्रेजी नामों से नहीं बल्कि लेटिन नामों से प्रभावित थे. सुना है कि नोबल पुरस्कार पाने वाले भारतीय अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने विभिन्न केलैंण्डर आदि के विषय पर शौध किया था और कोई किताब भी लिखी थी, शायद उसमें इसका कोई वर्णन हो?

अपने खेतों में काम करने वाले या रोजाना की पगार पाने वाले लोग जिन्हें छुट्टी न मिलती हो, उनके लिए सप्ताह का कब कौन सा दिन है शायद इसका विषेश महत्व नहीं, बस त्योहारों उत्सवों के दिन पता चलने चाहिये. नौकरी करने वाले लोग जिन्हें सप्ताह में एक दिन छुट्टी मिलती हो या फ़िर पगार मिलती हो, तो सप्ताह के दिन मालूम करने की बात बनती है. शुक्रवार को जापानी में स्वर्णदिन कहते हें उसका शायद यही अर्थ था कि उस दिन सप्ताह की तनखाह मिलती थी. प्राचीन काल में भारत के नक्षत्र ज्ञान को अच्छा जाना जाता था, शायद लेटिन भाषा को यह नाम भारत ने ही दिये?

5 टिप्‍पणियां:

  1. संजय बेंगाणी17 अक्तूबर 2007 को 7:52 am

    फिर से अच्छा लेख. स्प्ताह के दिनो पर रोशनी डालने के लिए धन्यवाद. अच्छी जानकारी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. शनि ,रवि और सोम का एक क्रम में होना और Saturday ,Sunday ,Monday और के साथ ही पड़ना ,क्या यूँ ही है ? यूँ ही होने की अत्यन्त क्षीण सम्भावना का गणित जानने में किसी को रुचि हो तो बतायें । उतनी गणित शायद मैं जानता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अमर््त््य सेन ने भारतीय केलैंडरों के बारे में लेख लिखा, और इस लेख The Argumentative Indian में मिलेगा, लेकिन इस लेख में, वह दिनों के नामों के बारे में कुछ नहिं कहता हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. संयोग से आज स्टाफ रूम में मित्र अध्यापक जा संस्‍कृत पढ़ाते हैं, के हाथ में ज्योतिष चंद्रिका नाम की पुस्‍तक थी, देखकर आपकी पिछली पोस्‍ट याद आई तो पूछा कि भई सप्‍ताह के दिनों का मामला साफ करो, उन्‍होंने प;ष्‍ठ पलटकर दिखाया कि प्रथम दिवस तो रवि की कंद्रीयता के कारण रविवार है उसके बाद हर पच्चीसवें होरा (चौबीस होरा का दिवस होता है) के स्वामी के आधार पर दिन का नाम होता है। मसलन रविवार के बाद पच्चीसवें हेारा का स्‍वामी चंद्र ठहरता है जो सोम भी कहा जाता है , अत: दिवस का नाम सोमवार हुआ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया लेख। शुक्रिया ज्ञानवर्धन के लिए । सप्ताह के सात दिनों की संकल्पना भारतीय ही जान पड़ती है। कहीं पढ़ा है कि प्राचीन युनान में महिने के तीस दिनों को तीन हिस्सों में बांटा गया था । इस तरह दस दिनों का सप्ताह होता था। पूरी दुनिया में न सिर्फ सात दिनों का सप्ताह है बल्कि उनके दिनों के नाम भी अलग - अलग हैं, मगर कहीं न कहीं उनमें एकरूपता है । इससे यही लगता है कि यह चलन किसी एक क्षेत्र से सब दूर प्रसारित होता चला गया।

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...