सोमवार, दिसंबर 24, 2007

पेरिस के झाड़ूमार

फ्राँसिसी पत्रकार फ्रेड्रिक पोटे (Frédéric Potet) ने ले मोंड 2 (Le Monde 2) में पेरिस के सफाई कर्मचारियों के जीवन के बारे में एक लेख लिखा है. इसे लिखने के लिए वे दो सप्ताह तक सफाई कर्मचारियों की पौशाक पहन कर उनके साथ साथ रहे, उनके साथ काम किया ताकि उनके जीवन को ठीक से समझ सकें.

अपने अनुभव के बारे में वह बताते हैं कि जब पहले दिन वह सफाई कर्मचारियों के दफ्तर में पहुँचे तो लोगों ने उनसे पूछा, "क्या तुम्हें अखबार से निकाल दिया है? या फ़िर कोई सजा मिली है?" जब फ्रेड्रिक ने बताया कि वह लेख लिखने के लिए उनके हर रोज के जीवन का अनुभव करना चाहते हैं तो एक सफाई कर्मचारी बोला, "शायद तुमने कुछ पाप किये होंगे तभी तुम्हें यहाँ आना पड़ा".

फ्राँस में भारत की तरह से जाति के झँझट नहीं, पर लेख को पढ़ कर लगता है कि समय, जगह आदि बहुत कुछ बदल कर भी जीवन की बहुत सी बातें नहीं बदलतीं, चाहे वह भारत हो या योरोप.

फ्राँस में कूड़ा सड़के के किनारे रखे बड़े बड़े ढक्कन वाले बंद कूड़ेदानों में फैंका जाता है. कूड़ा उठाने सप्ताह में दो या तीन बार, नगरपालिका की गाड़ी आती है. कूड़ेदान उठाना, उसे ट्रक में पीछे डालना, कूड़े को दबा कर छोटा करना, सब काम मशीन से होते हैं. सफाई कर्मचारियों होने से क्या काम करना होता है? एक आदमी गाड़ी के भीतर बैठ कर मशीन को चलाता है, एक या दो व्यक्ति बाहर उतर कर मशीन को डिब्बे से जोड़ते हैं या देखते हैं कि सब ठीक से हो रहा हो, अगर सड़क पर कुछ गिरा हो उसे उठा लो. कभी कभी लोग घर के सामान, जैसे सोफा, फ्रिज, टेलिविजन आदि को कूड़ेदान के पास बाहर रख देते हैं, तो इस तरह के सामान को उठाना भी उनका काम है. बड़ी सड़कों पर गिरे पत्तों, गंदगी आदि की सफाई का काम भी मशीन से होता है पर कई जगहों पर मशीन वाली गाड़ी नहीं जा सकती और लोगों को झाड़ू ले कर पुराने तरीके से ही सफाई करनी पड़ती है.

फ्रेड्रिक सफाई कर्मचारियों के साथ बिताये इन दिनों के अनुभवों से बहुत सी बातों को समझाते हैं जिनके बारे में हम अक्सर नहीं सोचते. जैसे कि इन सफाई की मशीनों वाली गाड़ियों के शोर के बीच में रहने का असर. कई बार घर के बाहर जब सफाई की गाड़ी कुछ समय के लिए कूड़ा उठाने के लिए रुकती है तो शोर से झुँझुलाहट सी होती है, मन में आता है कि इतनी सुबह सुबह इस तरह का शोर करके हमारी नींद खराब कर देते हैं, पर यह कभी नहीं सोचा था कि इस तरह के शोर में घिर कर काम करना कितना कष्टदायक होगा और हर रोज़ कई घँटों तक शोर के बीच में रह कर उन्हें किस तरह लगता है?

सफाई कर्मचारी अपनी बातों में बार बार कूड़े, पाखाने और गन्दगी के बीच में रहने और काम करने के असर के बारे में बताते हैं, उनके घर वालों को और बच्चों को इस काम कर बारे में बताने से शर्म आती है, उनके शरीर से कपड़ों से बू आती है, जब वे सफाई कर्मचारियों की वर्दी पहने होते हैं तो लोग उनकी तरफ देखते नहीं, मन में हीन भावना आ जाती है, इत्यादि. फ्रेड्रिक से बात करते हुए एक व्यक्ति कहता है कि इस काम की सबसे बुरी बात है कि चाहे जितनी भी मेहनत करलो, गन्दगी कम नहीं होती, आप ने सारी सफाई की हो तो भी, दो मिनट बाद ही कोई और उसे गन्दा कर देगा.

अगर मशीनों के साथ काम करके यह हाल है तो भारत में जहाँ सब कुछ अपने हाथों से, बिना दस्ताने पहन कर करना पड़ता है, वहाँ लोगों के मन पर क्या असर होता होगा इसको सोचा जा सकता है.

फ्रेड्रिक के अनुसार 2007 में जब पेरिस की नगरपालिका ने 300 नये सफाई कर्मचारियों की भर्ती के लिए विज्ञापन दिया तो 4000 लोगों ने अर्जी भेजी. सरकारी नौकरी, अच्छी मासिक पगार, सुबह काम करना प्रारम्भ करो और दोपहर तक खाली हो जाओ, आदि से यह काम करना चाहनेवालों की कमी नहीं.

पेरिस के सफाई कर्मचारियों में कुछ भारतीय भी हैं. फ्रेड्रिक उनके बारे में अधिक नहीं बताते पर अगर भारत में जाति भेद का सोचें या फ़िर भारतीय समाज में छोटे बड़े काम करने वालों के बीच के भेदभाव के बारे में सोचें तो लगता है जाने क्या बताया होगा उन्होंने अपने घर वालों को कि क्या काम करते हैं वे? पेरिस में सफाई करने की सरकारी नौकरी मिले, 1200 यूरो की मासिक पगार मिले तो क्या आप क्या यह काम करना पसंद करेंगे?

11 टिप्‍पणियां:

  1. सफ़ाई कर्मचारियो के जीवन के बारे मे और उनके जीवन की कार्यशैली का जिस सहजता और बारीकी के साथ किया गया है सराहनीय है बहुत बढ़िया. लेख

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुनिल जी,
    विकसित और अविकसित समाजों का यह अन्तर केवल सफाई कर्मचारियों तक ही सीमित नहीं है। यह सबसे निचले स्तर से लेकर सबसे ऊपरी स्तर तक देखा जा सकता है। भारत का एक आटोमोबाइल मिस्त्री जिन औजारों से काम करता है, योरप के मिस्त्री उससे बहुत ही अधिक सुविधाकारक उपकरणों से लैस होते हैं। भारत में किसानी के औजार अबी भी आदिम युग के लगते हैं; योरप के किसी माल में कृषि उपकरणों पर एक नजर डालने से पता चल जाता है कि उन्होने हर बात पर पूरा ध्यान दिया है और उसके लिये पूरे वैज्ञानिक ढ़ंग से उपकरण तैयार किये हैं। यदि और उपर चलें तो भारत की सेना के पास जो उपकरण हैं, उससे कितने अधिक प्रगत अस्त्र-शस्त्रों से विकसित देशों की सेना लैस रहती है, यह कहने की जरूरत ही नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिल्कुल सही कहा तुमने अनुनाद. :)

      हटाएं
  3. कल 20/03/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद यश, तुम्हारी वजह से यह भूली बिसरी पोस्ट याद आ जाती हैं.

      हटाएं
  4. ऐसा काम किसी ने अपने देश में भी किया होता...यहाँ तो लोग उलकी ुदवी देखकर तय करते हैं कि वो किस तरह का इंसान ह8ै...जात की बात तो बाद में आती है..

    उत्तर देंहटाएं
  5. किसी ने ऐसा काम यहाँ भी किया होता तो बेहतर होता.. यहां तो आदमी की फितरत उसके ओहदे से मापी जाती है...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बिल्कुल सही कहा आप ने रंगराज जी. ऊँचनीच हमारे समाज में इतने गहरे बैठे हैं कि जीवन के हर पहलू पर उनका प्रभाव है!

      हटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...