शनिवार, जून 25, 2005

वापस बोलोनिया

आज की तस्वीर में एक बार फ़िर से बिबयोने के घोड़े

छुट्टियाँ खत्म हो गयीं और हम सब वापस बोलोनिया आ गये हैं. घर आ कर अज़ीब लग रहा है. यहाँ गरमी भी है और उमस भी यूँ कि जी घबरा जाये. बिबियोने मे समय का अहसास ही मिट गया था, चाहे जितने बजे उठो, चाहे जितने बजे खाना खाओ, बस सैर, तैरना, सोना और देर तक अखबार पढ़ना. घर वापस आ कर कुछ अज़ीब लगता है, फ़िर से वही घड़ी की तानाशाही और भागम भाग.


घर वापस आ कर टेलीफ़ोन की आनसरिंग मशीन पर अंजोर और मिन्नी दीदी का मैसेज. मिन्नी दीदी आजकल अमरीका में हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...