रविवार, नवंबर 01, 2009

घादा जमशीर की लड़ाई

घादा जमशीर (Ghada Jamshir) बहरेन की रहने वाली हैं और उन्होंने स्त्री अधिकारों की माँग के लिए एक संस्था बनायी है जिसका ध्येय है कि शरीयत कानून के द्वारा होने वाले स्त्रियों के मानव अधिकारों के विरुद्ध होने वाले फैसलों के बारे में आवाज़ उठायें. उन्होंने इस संस्था को बनाने का निर्णय आठ वर्ष पहले लिया जब उनकी मुलाकात एक अदालत के बाहर एक स्त्री से हुई जिसे उसके पति ने तलाक दिया था और साथ ही अदालत ने फैसला किया था कि उसकी बेटी पिता के साथ रहेगी. जमशीर का भी तलाक हुआ है.

(From nomulla.net)

धीरे धीरे जमशीर की संस्था वुमेनज़ पेटिशन कमेटी (Women's petition committee) को स्थानीय स्त्रियों का सहारा मिला है और घादा जमशीर का नाम जाने जाना लगा है. जमशीर ने देश में घूञ घूम कर शरीयत अदालयतों में होने वाले फैसलों से प्रभावित स्त्रियों की कहानियाँ एकत्रित की, उन्हों लोगों तक पहुँचाया और सरकार से माँग की न्याय पद्धती में बदलाव आवश्यक है.

जिन मुद्दों को जमशीर की संस्था ने उठाया है उनमें बड़ी संख्या में तलाकशुदा स्त्रियाँ हैं जिनके अधिकारों को पुरुषों के अधिकारों से कम माना गया, पर साथ ही अन्य मुद्दे भी हैं जैसे कि नवयुवतियों से कच्ची शादी करके उनसे शारीरिक सम्बंध करना और फ़िर उन्हें छोड़ देना, जबरदस्ती की शादियाँ और नाबालिग लड़कियों से बलात्कार, जिनमें अदालतें केवल पुरुषों की बात सुनती हैं और स्त्रियों को न्याय नहीं मिलता.

घादा जमशीर पर अदालत की मान हानि करने का आरोप लगाया गया है, उनके पीछे खुफ़िया पुलिस कई सालों से लगी है, उन्हें जान से मारे जाने की धमकियाँ मिल चुकी हैं और कई लोगों ने घूस देने की कोशिश भी की. सन 2006 में अमरीकी पत्रिका फोरबस (Forbes) ने घादा का नाम अरब जगत की दस सबसे महत्वपूर्ण स्त्रियों मे गिना था, लेकिन उनके अपने देश में अखबारों आदि में उनकी लड़ाईयों के बारे में समाचार नहीं छपते और उन पर विदेशी एजेंट होने का आरोप लगाया जाता है.

जमशीर की सबसे प्रमुख माँग है कि पारिवारिक झगड़ों में शरीयत का कानून नहीं केवल सामान्य सिविल कानून का प्रयोग होना चाहिये.

जमशीर ने एक साक्षात्कार में कहा कि, "बहरेन में शिया मुसलमान मुता'ह करते हैं, यानि कुछ तो इस तरह के विवाह जिनमें पत्नी को सभी हक हों और कुछ "आनंद" लेने के लिए विवाह जैसे रिश्ते, जिसमें स्त्री को कोई हक नहीं. किसका आनंद है, केवल पुरुष का? और स्त्री का क्या? इस तरह के रिश्तों से होने वाले बच्चों को क्या मिलता है, कुछ नहीं. मुझे यह बताईये कि क्या यह कुरान शरीफ़ के नाम पर किया जा रहा है? मुता'ह के नाम पर नाबालिग लड़कियों से जबरदस्ती शारीरिक सम्बंध बनाना क्यों जायज़ है? क्या कोई धर्म इस तरह की बात की अनुमति दे सकता है? क्यों स्त्रियों से परिवार नियोजन की बात नहीं की सकती?"

तो कहा गया कि वह शिया मुसलमानों के विरुद्ध बोलती हैं क्योंकि स्वयं सुन्नी हैं. पर जमशीर इस आरोप ने नहीं डरती, "हमारे देश में शिया बहुसंख्यक हैं पर उन्हें हमेशा दबाया गया है, यह तो शब्दों और पोलिटि्कस का खेल है. जो धर्म सुधार होने चाहिये वह अल खलीफ़ा राज घराने ने कुछ नहीं किया, बस पारिवारिक कानून बनाया है जिससे लोगों का ध्यान हटाया जाये और कट्टरपंथियों से समझौता किया जाये."

जमशीर सुन्नी मुसलमानों के रिवाज़ो के बारे में बोली हैं, "हमारे सुन्नियों में जवाज़ यानि कानूनी विवाह है, और साथ में पुरुष मिसयार भी कर सकते हैं यानि कानूनी रिश्ता जिसमें औरत को कोई हक नहीं, वह अपने परिवार में रहती है और उसका "पति" जब उसका दिल करे उससे मिलने जाता है. यह कैसी पत्नी है, यह तो कोई और रिश्ता है, क्या इससे औरत को इज़्जत मिलती है, क्या उसे अधिकार मिलते हैं?

जमशीर के विरुद्ध कहते हैं कि वह पर्दा नहीं करती, धर्म के खिलाफ़ हैं, तो वह उत्तर देती हैं, "मेरे बारे में मसजिदों में क्या कहा जाता है, इससे मुझे कोई चिंता नहीं, अल्ला तालाह फैसला करेंगे कि मुझे स्वर्ग मिले या नर्क. किसने इनको यह हक दिया कि मेरे फैसले करें? इन्हें मालूम है कि मैं रोज़े रखती हूँ या नहीं? इन्हें मालूम है कि मैं कितनी बार नमाज पढ़ती हूँ?"

जमशीर से पूछा गया कि अगर तुम्हें जेल में डाल देंगे तो डर नहीं लगता? वह बोलीं, "बाहर भी बड़ा जेलखाना है जिसमें औरतों का जीवन बंद है. मेरी लड़ाई है कि अरब समाज में औरतों को पुरुषों के समान अधिकार मिलें और मैं इसके लिए हमेशा बोलने को तैयार हूँ."

2 टिप्‍पणियां:

  1. किसी इस्लामी देश में जमशीर का काम एक जंग लड़ना है। लेकिन यह जंग हर जगह होगी जहाँ नाइंसाफी होगी। स्त्रियों को बराबर के अधिकार देने होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जमशीर की लड़ाई मजबूत हो , फैले ।

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...