मंगलवार, जनवरी 30, 2007

प्रेम की परिभाषा

पँद्रहवीं शताब्दी के इतालवी चित्रकार ब्रोंज़ीनो की कलाकृति "वीनस की जीत की प्रतीक कथा" (Allegory of triumph of Venus), पहली दृष्टि में कामुकता का खुला चित्रण करती लगती है. लंदन की नेशनल गैलरी में लगी यह तस्वीर आँजेलो ब्रोंज़ीनो ने करीब 1545 में बनाई थी जिसे फ्लोरेंस के शासक कोसिमो दे मेदिची प्रथम ने फ्राँस के राजा फ्राँसिस प्रथम को भेंट में दी थी. तस्वीर को कामुक और दिमाग भ्रष्ट करने वाली कह कर, इसके कुछ हिस्सों को ऊपर से रंग लगा कर ढक दिया गया था, जो अब हटा दिये गये हैं. यह तस्वीर लंदन कैसे पहुँची इसकी पूरी जानकारी इतिहास में नहीं है. पर इस तस्वीर में ब्रोंज़ीनो ने प्रेम की पूरी परिभाषा को समझाया है, इसलिए इसे ध्यान से देखिये.




इतालवी कला विशेषज्ञ फेदेरीको ज़ेरी जिनका देहांत 1998 में हुआ था इस तस्वीर के बारे में विस्तार से लिखा है, और यह मेरा वर्णन उन्हीं की एक किताब से है.

चित्र की कहानी ग्रीस के पुराने देवी देवताओं की कहानियों से जुड़ी है. चित्र के बीचों बीच सबसे बड़ी आकृति है प्रेम की देवी वीनस की. जिस तरह वह बैठीं हैं उस मुद्रा को सरपेनटाईन यानि साँप जैसी कहा जाता है. उनके बायें हाथ में सोने का सेब है जो पारिदे ने जूनोने तथा मिनर्वा की प्रतिस्पर्धा के दौरान उन्हें दिया था. वीनस के साथ कामुक मुद्रा में उन्हें चूमने वाले नवयुवक हैं क्यूपिड यानि कामदेव. कामदेव का दायाँ हाथ वीनस के वक्ष पर है और ध्यान से न देखें तो लगता है कि हाँ दोनो काम की अग्नि में एक दूसरे के लिए बेकरार हो कर जल रहे हैं. पर ध्यान से देखें तो वीनस दायें हाथ से कामदेव का तीर चुरा रहीं हैं और कामदेव जी बायें हाथ से वीनस का मुकुट उतारने की कोशिश में हैं. यानि प्रेम के बहाने से दोनो एक दूसरे को धोखा देने और अपने स्वार्थ के लिए लगे हैं.

तस्वीर के दायीं ओर एक नग्न बच्चा है, पाँव में पायल, हाथ में गुलाब के फ़ूल, हँसमुख चेहरा. यह है आनंद.

आनंद के पीछे एक सुंदर कन्या है, जिसके हाथ में शहद का छत्ता है. इसे ध्यान से देखिये तो पायेंगे कि इसके हाथ उल्टे हें यानि दायाँ हाथ बायीं ओर और बायाँ हाथ दायीं ओर. इसकी टाँगें नहीं साँप जैसी पूँछ है जो दो मुखोटों के पास छुप कर डँक मारने का इंतज़ार कर रही है. यह है आनंद के पीछे छुपा धोखा.

तस्वीर के बायीं ओर कामदेव के पीछे हैं सिर को पकड़े, दर्द से चिल्लाने वाले ईर्ष्यादेव और और उनके ऊपर भर्राई आखों वाली पागलपन की देवी.

तस्वीर की अंतिम आकृति है ऊपर बायीं ओर का वृद्ध जो आँखें घुमा कर कह रहा है कि "अभी दिखाता हूँ मैं मजा". यह है समयदेव जो समय की नीली चादर लिए खड़ा है और कह रहा है अभी कुछ समय निकलने दो, सब प्यार भूल जाओगे.

यानि पहली दृष्टि में काम भावना दिखाने वाली यह तस्वीर असल में प्रेम का बहुत निराशाजनक चित्रण करती है.

4 टिप्‍पणियां:

  1. एक सुन्दर चित्र के पीछे छिपे दर्शन का सुन्दर खुलासा. साधूवाद.

    रही बात नग्नता व कामुकता की, तो वह तो देखने वाले की आँखों तथा सोच पर निर्भर करता है.

    कला पर इस प्रकार की अन्य प्रविष्टीयों का इंतजार रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. संजय बेंगाणी31 जनवरी 2007 को 11:26 am

    अब एक काम और कर दे, अक्षरों को थोड़ा बड़ा कर दें. रंग सौजन्य ऐसा है की पढ़ने में काफी मुश्किल हो रही है.
    यही हाल रहा तो चश्मा लग जाएगा. आपको पढ़ना तो छोड़ नहीं सकते.

    उत्तर देंहटाएं
  3. If you're interested, Bronzino's Allegory is the subject of my latest historical novel, "Cupid and the Silent Goddess", which imagines how the painting might have been created in Florence in 1544-5.

    See:
    http://www.twentyfirstcenturypublishers.com/index.asp?PageID=496

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय, जिस तरह से आपने इस कलाकृति की समीक्षा की उसने दिल जीत लिया। नवजात हुं चिठ्ठा जगत पर।

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...