बुधवार, जून 13, 2007

मेरा गाँव, मेरा देश, मेरे लोग, मेरा झँडा

करीब तीस साल पहले की बात है. दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में शल्यचिकित्सा विभाग में हाऊससर्जन था और अस्पताल के परिसर के अंदर होस्टल में रहता था. होस्टल में साथ वाले कमरे में था अजय, जो पूना के आर्मी मेडिकल कोलिज से आया था. उसके पास रिकार्ड प्लेयर था. उसी के कमरे में पहली बार बीटलस (Beatles) का रिकार्ड "सार्जेंट पैपर लोन्ली हार्टस क्लब बैंड" सुना था. "लूसी इन द स्काई विद डायमँडस" (Lucy in the sky with diamonds) बहुत अच्छा लगता था और जब अजय ने बताया था यह गाना अपने शब्दों में एल.एस.डी (LSD) याने नशे की बात छुपाये हुए है तो बड़ा अचरज हुआ था.

बीटलस का नाम सुना था, मालूम था कि वह लोग ऋषीकेश में गुरु महेश योगी से मिलने आये थे और उनके चेले बन गये थे. पर उनके गानों के बारे में कुछ विषेश जानकारी नहीं थी. आकाशवाणी के दिल्ली बी स्टेशन पर सप्ताह में दो बार रात को अँग्रेजी गानो के कार्यक्रम आते थे, "फोर्सेस रिक्वेस्ट" और "ए डेट विद यू", उनमें सुने हुए कलाकारों में से क्लिफ रिचर्ड तथा जिम रीवस जैसे नाम मालूम थे.

जिस दिन पहली बार जोह्न लेनन (John Lennon) का "ईमेजिन" (Imagine) पहली बार सुना वह अभी तक याद है. जोह्न ने यह गीत 1971 में लिखा जब वह बीटलस के गुट से अलग हो चुके थे. गीत के कुछ शब्दों ने मुझे झकझोर दिया था -

Imagine there's no countries
It isn't hard to do
Nothing to kill or die for
And no religion too
Imagine all the people
Living life in peace...

कल्पना करो कि कोई देश नहीं हो
इतना कठिन नहीं है
न किसी के लिए मरना या मारना पड़े
और सोचो की धर्म भी न हो
कल्पना करो कि सभी लोग
शाँति से जीवन बिताते हैं ...
तब तक हमेशा अपना देश, अपना झँडा, "सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा" और "ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी कसम तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे" जैसे गीत ही भाते थे, यह बात कि देश प्रेम और देश भक्ति से ऊपर भी कुछ हो सकता है यह बात पहली बार मन में आयी थी. इस गीत को जोह्न लेनन की आवाज में यूट्यूब पर सुन सकते हैं.

फ़िर इटली में आने के बाद करीब दस वर्ष पहले एक अन्य गाना सुना जिसका भी मुझ पर बहुत असर पड़ा. गीत गाया था स्पेन के गीतकार और गायक मिगेल बोसे (Miguel Bosé) ने. अगर आप ने पेड्रो अलमोदोवार की फिल्म "सब कुछ मेरी माँ के बारे में" (All about my mother) देखी हो तो शायद आप को मिगेल बोसे याद हो, उसमें उन्होंने स्त्री वेष में रहने वाले पुरुष की भाग निभाया था. मिगेल ने यह गीत बोज़निया और कोसोवो की लड़ाई के दिनों में लिखा था.

Sogna una Terra che guerre non ha
che ama la libertà
Sogna un colore che bandiere non ha
che ama la libertà

उस धरती के सपने देखो जहाँ युद्ध न हों
जो आजादी से प्यार करता हो
उस रंग के सपने देखो जो झँडों में न हो
जो आजादी से प्यार करता हो
इस गीत के यह शब्द जोह्न लेनन के देशों के, सीमा रेखाओं के, अपने और दूसरों के भेदों के विरुद्ध सपना देखते हैं. मानवता और भाईचारा का यह सपना मुझे बहुत प्रिय है. एक पत्रिका पढ़ रहा था जिसमें बीटलस के सार्जेंट पैपर वाले रिकोर्ड का चालिसवीं वर्षगाँठ की बात थी. उसी को पढ़ते पढ़ते ही यह सब बातें मन में याद आ गयीं.

4 टिप्‍पणियां:

  1. "कल्पना करो कि कोई देश नहीं हो
    इतना कठिन नहीं है
    न किसी के लिए मरना या मारना पड़े
    और सोचो की धर्म भी न हो
    कल्पना करो कि सभी लोग
    शाँति से जीवन बिताते हैं ..."

    "उस धरती के सपने देखो हूँ जहाँ युद्ध न हों
    जो आजादी से प्यार करता हो
    उस रंग के सपने देखो हूँ जो झँडों में न हो
    जो आजादी से प्यार करता हो"

    काश ये सिर्फ कल्पना ही नहीं, यथार्थ बन सके

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल्पना करो कि कोई देश नहीं हो
    इतना कठिन नहीं है
    न किसी के लिए मरना या मारना पड़े
    और सोचो की धर्म भी न हो
    कल्पना करो कि सभी लोग
    शाँति से जीवन बिताते हैं ...

    यह कल्पना तो हम किशोरावस्था में ही कर चुके, अब तो प्रयास करने की बारी है. सीमाहिन विश्व के लिए आओ हाथ मिलाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जॉन लेनोन वैसे लोगों मे से १ थे जिन्होंने अमेरिकी साम्रज्यवाद के खिलाफ़ पूरी दुनिया के युवाओं को खड़ा करने की कोशिश की. भौतिकवादी दुनिया को कला की शक्ती का एहसास करवया. लेख के लिये धन्यवाद. कभी बॉब डिल्लन पर भी लिखें

    उत्तर देंहटाएं
  4. हाँ सुनील जी, यह कल्पना ही बहुत सुहानी लगती है । यदि ऐसा हो सके तो मनुष्य को अपने बच्चों को इस संसार में लाने का अफसोस न होगा । कभी कभी लगता है कि क्या इस भय व हिंसा के वातावरण में अपने बच्चों को लाना एक अपराध नहीं है ? हर तरफ लोग अपने अपने छोटे से अहम् को बहुत बड़ा बनाकर विवाद कर रहे हैं । क्योंकि एक बार उन्होंने एक बात को कह दिया सो कह दिया अब उसे हर हालत में सही बताना है । चाहे यही बात कोई और कहता तो शायद उन्हें गलत लगती ।
    Bob Dylan के गाने भी इस विषय में कहते हैं । उनमें से एक जो बहुत लोकप्रिय हुआ यहाँ दे रही हूँ ।
    Blowin’ in The Wind

    How many roads must a man walk downBefore you call him a man? Yes, ’n’ how many seas must a white dove sailBefore she sleeps in the sand? Yes, ’n’ how many times must the cannon balls flyBefore they’re forever banned? The answer, my friend, is blowin’ in the wind,The answer is blowin’ in the wind.How many times must a man look upBefore he can see the sky? Yes, ’n’ how many ears must one man haveBefore he can hear people cry? Yes, ’n’ how many deaths will it take till he knowsThat too many people have died? The answer, my friend, is blowin’ in the wind,The answer is blowin’ in the wind.How many years can a mountain existBefore it’s washed to the sea? Yes, ’n’ how many years can some people existBefore they’re allowed to be free? Yes, ’n’ how many times can a man turn his head,Pretending he just doesn’t see? The answer, my friend, is blowin’ in the wind,The answer is blowin’ in the wind.
    आपकी इस पोस्ट के लिए धन्यवाद । पढ़कर बहुत अच्छा लगा ।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...