गुरुवार, दिसंबर 22, 2005

श्वेत पुष्प

पश्चिम बंगाल में एक छोटा सा शहर था अलीपुर द्वार जहाँ हम लोग बचपन में कई बार मौसी के पास गर्मियों की छुट्टियाँ बिताने जाते थे. कुंदू बाबू का घर मौसी के घर के करीब ही था और पड़ोसी होने के अलावा वे मौसी के परिवार के डाक्टर भी थे. अक्सर उनके घर आना जाना होता.

मृदु और मितभाषी कुंदू बाबू का धैर्य अंतहीन था, मुझ जैसे बच्चे के अनेके प्रश्नों के उत्तर वह सोच समझ कर धीरे धीरे, बहुत गम्भीरता से देते. ठीक से इसके बारे में कभी नहीं सोचा पर हो सकता है कि मेरे अचेतन मन को उनके व्यक्तित्व से ही प्रेरणा मिली डाक्टर बनने की!

कुंदूबाबू का एक बेटा था जिसकी घर के पास ही फोटोग्राफर की दुकान थी, और पाँच बेटियाँ थीं. उनकी दो बेटियों की शादी हो चुकी थी और तीन घर में रहती थीं, कनकन, आभा और शिवानी.

कुंदू बाबू की पत्नी को सब लोग बड़ी माँ कहते. उनकी जो याद है उसमें वह आंगन में कूँए के पास गीले, खुले बाल ले कर खड़ीं हैं, माथे पर बड़ी सी गोल बिंदी, चौड़े लाल किनारे वाली सफेद साड़ी, अपनी मैना को मिर्ची खिलाते हुए. वह मैना हमारे लिए बहुत अचरज की चीज़ थी, क्योंकि वह बोलती थी, मां मां चिल्ला कर मिर्ची मांगती. तब अंग्रेजी लेखिका एनिड ब्लाईटन के फेमस फाईव उपन्यासों में बोलने वाले तोते पौली के बारे में कहानियाँ पढ़ते थे, तो मैं मन ही मन उस मैना को पौली पुकारता और स्वयं को फैमस फाईव बनने के सपने देखता.

कुंदू बाबू के पास पालतू बिल्ली भी थी, उससे भी हमें बहुत अचरज होता. पालतू बिल्लियों के बारे में अंग्रेज़ी किताबों मे तो पढ़ा था पर कुंदू बाबू की बिल्ली जैसी कोई बिल्ली नहीं देखी थी. "काली बिल्ली, सारे दिन आस पास घूमती है, जाने कितनी बार रास्ता काटती है, क्या बुरा नहीं होता ?", हम सोचते. जब कुंदू बाबू खाना खाते तो बिल्ली पास में आ कर बैठ जाती और इंतज़ार करती कि कुंदू बाबू उसे कुछ खाने के लिए दें.

जिस साल की बात कर रहा हूँ उस साल बारह साल का हुआ था और शरीर में किशोरावस्था की नयी अनूभूतियाँ प्रारम्भ हो रहीं थीं. एक दिन उनके बाग में बैठे थे तो कनकन दीदी के चेहरे पर नज़र गयी तो वहाँ से हटे ही नहीं, इतनी सुंदर लगीं उस दिन वह. शायद उन्होंने भाँप लिया कि मैं उनकी तरफ कुछ ज़्यादा ही घूर रहा हूँ तो आभा दीदी मुझसे बोलीं, "कौन अधिक अच्छी लगती है तुम्हें ? मुझसे शादी करोगे या कनकन से ?". शर्म से मेरे कान लाल हो गये थे. पर जी किया था कि वहाँ बाग में लगे श्वेत रजनीगँधा के फ़ूल ले कर उन्हें कनकन दीदी को दे दूँ. इस बात को सोचते ही उन सफेद फ़ूलों की छवि मन के सामने आ जाती है.

उस साल सारी छुट्टियाँ भर कनकन दीदी मेरे ख्यालों में रहीं. दो साल बाद जब अलीपुर द्वार लौटे तो कनकन दीदी की शादी हो चुकी थी. उसके बाद कभी अलीपर द्वार जाने का मौका नहीं मिला. बहुत सालों बाद मौसी के यहाँ एक विवाह में आभा दीदी मिलीं थीं. अब तो बहुत सालों से उनकी कोई खबर नहीं. कुंदू बाबू और बड़ी माँ को गुज़रे ज़माने बीत गये. पर आज भी उन गर्मियों की वह मीठी अनुभूति और उन सफेद रजनीगँधा के फ़ूलों की याद नहीं गयी.

*****

बात सफेद फ़ूलों की है तो आज वही प्रस्तुत हैं



4 टिप्‍पणियां:

  1. सुनील जी, ये तो कोई पुरानी बडी दीदी, मंझली दीदी जैसी कहानी हो गयी। पुरानी शरत्चन्द्र की कहानियों जैसी।

    --मानोशी

    उत्तर देंहटाएं
  2. http://vagarth.com/dec05/kunal-singh/index.htmये कहानी शायद आपकी कहानी के आगे की बात कहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनूप भार्गव23 दिसंबर 2005 को 2:36 am

    सुनील जी:

    शायद हम सब के ही जीवन में कहीं न कहीं कोई ऐसी 'कनकन दीदी' की तस्वीर छुपी है । बस आप ने कह दिया हम सब 'जो कह न सके' ।
    अनूप

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं तो कहता हूँ सुनील जी आप अपने संस्मरण प्रकाशित करने की सोचें। हाथों हाथ बिकेगी, रातों रात बेस्ट सेलर बनेगी।

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...