शनिवार, जनवरी 07, 2006

शुभ प्रारम्भ

नये वर्ष का प्रारम्भ इस वर्ष हमारे पुत्र मारको तुषार के विवाह से हुआ. विवाह की तैयारी करने के लिए हम लोग २५ दिसंबर को दिल्ली पहुँचे. उनका विवाह पहले सिख रीति से होना था, फिर हिंदू रीति से और दूसरे दिन हमने प्रीतिभोज का आयोजन किया था. बस इस सब की तैयारी में दिन कैसे बीत गये, पता ही नहीं चला.

पिछले दिनों में जब मैंने इस विवाह के बारे में लिखा था तो आप में से बहुत लोगों ने शुभकामनाँए भैजी थीं. आप सब को बहुत बहुत धन्यवाद.

आज प्रस्तुत हैं मारको तुषार एवं आत्मप्रभा के विभिन्न विवाह समारोहों की कुछ तस्वीरें, नये वर्ष के मंगलमय होने की मेरी शुभकामनाओं के साथ.








9 टिप्‍पणियां:

  1. सुनिल जी, आत्मप्रभा और तुषार को नये जीवन में प्रवेश पर शुभाशीष और मंगलकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुनील जी, आपके पुत्र के विवाह पर ढ़ेरों बधाईयाँ। लेकिन यह सारा आयोजन हिन्‍दुस्‍तान में हुआ और आपने हम लोगों को बुलाया ही नहीं। हमारी दावत खामखां ही मारी गयी। :)

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत बधाई तथा नवविवाहित वर-वधु को नए जीवन के लिए ढ़ेरों शुभकामनाएँ। :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुनील जी, आपके पुत्र के विवाह पर ढ़ेरों बधाईयाँ। नवविवाहित वर-वधु को नए जीवन के लिए ढ़ेरों शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनील जी, आपके पुत्र के विवाह पर ढ़ेरों बधाईयाँ। नवविवाहित वर-वधु को नए जीवन के लिए ढ़ेरों शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नव विवाहित वर-वधु(आत्मप्रभा और तुषार) को उनके भावी सुखी विवाहित जीवन के लिये हमारे परिवार की तरफ़ से बहुत बहुत बधाईयां। ईश्वर करे उनका जीवन सुखों से भरपूर रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारी भी ढेर सारी शुभकामनायें.
    नाम दोनों का बडा अच्छा लगा..मार्को तुषार और आत्मप्रभा...
    तस्वीरें बहुत अच्छी थीं .आप पति पत्नि भी नये जोडे से कम नहीं लग रहे थे. :-)

    प्रत्यक्षा

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुनील जी, आपके पुत्र के विवाह पर ढ़ेरों बधाईयाँ। नवविवाहित वर-वधु को नए जीवन के लिए ढ़ेरों शुभकामनाएँ।

    आशीष

    उत्तर देंहटाएं

"जो न कह सके" पर आने के लिए एवं आप की टिप्पणी के लिए धन्यवाद.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...